-->

Monday, August 10, 2020

कृष्ण जन्माष्टमी 2020 कब है? तिथि, पूजा मुहूर्त, व्रत विधान, गोकुलाष्टमी का व्रत और महत्व।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी जिसे गोकुलाष्टमी भी कहा जाता है, भगवान कृष्ण के जन्म के उपलक्ष्य में पूरे भारत में मनाया जाने वाला एक भव्य त्योहार है। 

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, त्योहार भाद्रपद के महीने में कृष्ण पक्ष की अष्टमी या अंधेरे पखवाड़े के 8 वें दिन मनाया जाता है।  ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार, कृष्ण जन्माष्टमी अगस्त या सितंबर के महीने में मनाई जाती है।

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2020 कब है?

इस साल श्री कृष्ण जन्माष्टमी की तारीख को लेकर लोग काफी कंफ्यूज हो रहे हैं। बात ही कुछ ऐसी है। भगवान श्री कृष्ण का जन्म भाद्रपद अष्टमी तिथि में रोहिणी नक्षत्र में अर्ध रात्रि को हुआ था।

Saturday, August 8, 2020

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2020 का डिजिटल उत्सव 11, 12 अगस्त इस्कॉन बेंगलुरु





  • देश में महामारी की वर्तमान स्थिति और सार्वजनिक सुरक्षा के हित में इस्कॉन-बेंगलुरु, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी को डिजिटल रूप से मनाएगा और दुनिया भर में कृष्ण के भक्तों तक पहुंचेगा।  इसलिए 11 और 12 अगस्त 2020 को ऑनलाइन कार्यक्रमों की एक श्रृंखला की योजना बनाई गई है।

Tuesday, August 4, 2020

Shri Krishna Janamasthami Celebrations 2020 : Date,Time, Fasting,Pooja Method , Story.

श्री कृष्ण जन्माष्टमी उत्सव २०२०: तिथि, समय, उपवास, पूजा विधि, कथा।

Shri Krishna Janamasthami Celebrations 2020 : Date,Time, Fasting,Pooja Method , Story. श्री कृष्ण जन्माष्टमी समारोह २०२०: तिथि, समय, उपवास, पूजा विधि, कथा।

In Sanatan religions,Shri Krishna Janmashtami is celebrated as the birth anniversary of Shri Krishna.

Monday, August 3, 2020

Auspicious time of tying Rakshasutra (Rakhi) on this 03 Aug 2020 in India Shubh Muhurt Rakshabandhan

Rakshabandhan 2020 , Rakshabandhan in Chaturyoga for the first time in the century, this is the auspicious time to tie Rakshasutra (Rakhi) 






Bhadra nakshatra timing is from 2 August night to 3 August at 9:28 in the morning.  

In Bhadra period, it is prohibited to perform tying Rakhi 

Its special auspicious time from 9:29 am to 10:46 am, 1:48 pm to 7:10 pm.   

Sunday, August 2, 2020

Shri Krishna And Sudama Famous Story Of True Friendship



Sudama was a poor Brahmin. He and his family lived a life of extreme poverty and plight.  For many days, he had to survive by eating very little. Many times he had to sleep hungry.  Sudama blamed himself for his and his family's plight. He also had the idea of ​​committing suicide several times.

Search This Blog